सूरदास के पद

Information about सूरदास के पद

Published on July 11, 2014

Author: vishakha.srivas98

Source: authorstream.com

Content

: सूरदास के पद   जीवन परिचय : जीवन परिचय सूरदास का जन्म १४७८ ईस्वी में रुनकता नामक गांव में हुआ। यह गाँव मथुरा-आगरा मार्ग के किनारे स्थित है। कुछ विद्वानों का मत है कि सूर का जन्म सीही नामक ग्राम में एक निर्धन सारस्वत ब्राह्मण परिवार में हुआ था। बाद में ये आगरा और मथुरा के बीच गऊघाट पर आकर रहने लगे थे। सूरदास के पिता रामदास गायक थे। सूरदास के जन्मांध होने के विषय में मतभेद है। प्रारंभ में सूरदास आगरा के समीप गऊघाट पर रहते थे। वहीं उनकी भेंट श्री वल्लभाचार्य से हुई और वे उनके शिष्य बन गए। वल्लभाचार्य ने उनको पुष्टिमार्ग में दीक्षित कर के कृष्णलीला के पद गाने का आदेश दिया। सूरदास की मृत्यु गोवर्धन के निकट पारसौली ग्राम में १५८० ईस्वी में हुई। सूरदास के पद  : सूरदास के पद  सूरदास के पद  प्रश्न-उत्तर: सूरदास के पद  प्रश्न-उत्तर प्रश्न-गोपियों द्वारा उद्धव को भाग्यवान कहने में क्या व्यंग्य निहित है ?    उत्तर- :   गोपियों द्वारा उद्धव को भाग्यवान कहने में यह व्यंग्य निहित है कि उद्धव वास्तव में भाग्यवान न होकर अति भाग्यहीन हैं। वे कृष्णरूपी सौन्दर्य तथा प्रेम-रस के सागर के सानिध्य में रहते हुए भी उस असीम आनंद से वंचित हैं। वे प्रेम बंधन में बँधने एवं मन के प्रेम में अनुरक्त होने की सुखद अनुभूति से पूर्णतया अपरिचित हैं।  सूरदास के पद : सूरदास के पद   प्रश्न- 2: उद्धव के व्यवहार की तुलना किस-किस से की गई  है ?  उत्तर- :   गोपियों ने उद्धव के व्यवहार की तुलना निम्नलिखित उदाहरणों से की हैं: १ -  गोपियों ने उद्धव के व्यवहार की तुलना कमल के पत्ते से की हैं जो नदी के जल में रहते हुए भी जल की ऊपरी सतह पर ही रहता है। अर्थात जल में रहते हुए भी जल का प्रभाव उस पर नहीं पड़ता। उसी प्रकार श्रीकृष्ण का सानिध्य पाकर भी उद्धव श्रीकृष्ण के प्रभाव से मुक्त है।  सूरदास के पद : सूरदास के पद  २ - गोपियों ने उद्धव के व्यवहार की तुलना जल के मध्य रखे तेल की मटकी के साथ की हैं, जिस पर जल की एक बूंद भी टिक नहीं पाती। ठीक वैसे ही उद्धव श्रीकृष्ण के समीप रहते हुए भी उनके रूप के आकर्षण तथा प्रेम-बंधन से सर्वथा मुक्त हैं।  ३ - उद्धव ने गोपियों को जो योग का उपदेश दिया था उस पर गोपियों का यह कहना है की यह योग सुनते ही कड़वी  ककड़ी के सामान अत्यंत अरूचिकर प्रतीत होता है।      सूरदास के पद : सूरदास के पद  प्रश्न- 3: गोपियों ने किन-किन उदाहरणों के माध्यम से उद्धव को उलाहने दिए हैं ?  उत्तर- : गोपियों ने कमल के पत्ते, तेल की मटकी और प्रेम की नदी के उदाहरणों के माध्यम से उद्धव को उलाहने दिए हैं । उनका कहना है की वे कृष्ण के साथ रहते हुए भी प्रेमरूपी नदी में उतरे ही नहीं, अर्थात साक्षात प्रेमस्वरूप श्रीकृष्ण के पास रहकर भी वे उनके प्रेम से वंचित हैं ।   सूरदास के पद : सूरदास के पद  प्रश्न 4: उद्धव द्वारा दिए गए योग के संदेश ने गोपियों की विरहाग्नि में  का काम कैसे किया ?   उत्तर- : गोपियाँ कृष्ण के आगमन की आशा में दिन गिनती जा रही थीं । वे अपने तन-मन की व्यथा को चुपचाप सहती हुई कृष्ण के प्रेम रस में डूबी हुई थीं । कृष्ण को आना था परन्तु उन्हों ने योग का संदेश देने के लिए उद्धव को भेज दिया । विरह की अग्नि में जलती हुई गोपियों को जब उद्धव ने कृष्ण को भूल जाने और योग-साधना करने का उपदेश देना प्रारम्भ किया, तब गोपियों की विरह वेदना और भी बढ़ गयी । इस प्रकार उद्धव द्वारा दिए गए योग के संदेश ने गोपियों की विरह अग्नि में घी का काम किया ।   सूरदास के पद : सूरदास के पद  प्रश्न 5: ' मरजादा न लही' के माध्यम से कौन-सी मर्यादा न रहने की बात की जा रही है ?  उत्तर- : ' मरजादा न लही' के माध्यम से प्रेम की मर्यादा न रहने की बात की जा रही है। कृष्ण के मथुरा चले जाने पर गोपियाँ उनके वियोग में जल रही थीं। कृष्ण के आने पर ही उनकी विरह-वेदना मिट सकती थी, परन्तु कृष्ण ने स्वयं न आकर उद्धव को यह संदेश देकर भेज दिया की गोपियाँ कृष्ण का प्रेम भूलकर योग-साधना में लग जाएँ । प्रेम के बदले प्रेम का प्रतिदान ही प्रेम की मर्यादा है, लेकिन कृष्ण ने गोपियों की प्रेम रस के उत्तर मैं योग की शुष्क धारा भेज दी । इस प्रकार कृष्ण ने प्रेम की मर्यादा नहीं रखी । वापस लौटने का वचन देकर भी वे गोपियों से मिलने नहीं आए ।       सूरदास के पद : सूरदास के पद  प्रश्न 6: कृष्ण के प्रति अपने अनन्य प्रेम को गोपियों ने किस प्रकार अभिव्यक्त किया है ?   उत्तर- : गोपियों ने कृष्ण के प्रति अपने अनन्य प्रेम को हारिल पक्षी के उदाहरण के माध्यम से अभिव्यक्त किया है। वे अपनों को हारिल पक्षी व श्रीकृष्ण को लकड़ी की भाँति बताया है। जिस प्रकार हारिल पक्षी सदैव अपने पंजे में कोई लकड़ी अथवा तिनका पकड़े रहता है, उसे किसी भी दशा में नहीं छोड़ता। उसी प्रकार गोपियों ने भी मन, कर्म और वचन से कृष्ण को अपने ह्रदय में दृढ़तापूर्वक बसा लिया है। वे जागते, सोते स्वप्नावस्था में, दिन-रात कृष्ण-कृष्ण की ही रट  लगाती रहती हैं। साथ ही गोपियों ने अपनी तुलना उन चीटियों के साथ की है जो गुड़ (यहाँ श्रीकृष्ण भक्ति) पर आसक्त होकर उससे चिपट जाती है और फिर स्वयं को छुड़ा न पाने के कारण वहीं प्राण त्याग देती है।       सूरदास के पद : सूरदास के पद  प्रश्न 7: गोपियों ने उद्धव से योग की शिक्षा कैसे लोगों को देने की बात कही है ?   उत्तर- :  गोपियों ने उद्धव से योग की शिक्षा ऐसे लोगों को देने की बात कही है जिनका मन चंचल है और इधर-उधर भटकता है। उद्धव अपने योग के संदेश  में मन की एकाग्रता का उपदेश देतें हैं, परन्तु गोपियों का मन तो कृष्ण के अनन्य प्रेम में पहले से ही एकाग्र है। इस प्रकार योग-साधना का उपदेश उनके लिए निरर्थक है। योग की आवश्यकता तो उन्हें है जिनका मन स्थिर नहीं हो पाता, इसीलिये गोपियाँ चंचल मन वाले लोगों को योग का उपदेश देने की बात कहती हैं।       सूरदास के पद : सूरदास के पद  प्रश्न 9: गोपियों के अनुसार राजा का धर्म क्या होना चाहिए?  उत्तर- : गोपियों के अनुसार राजा का धर्म उनकी प्रजा की हर तरह से रक्षा करना तथा नीती से राजधर्म का पालन करना होता है। एक राजा तभी अच्छा कहलाता है जब वह अनीती का साथ न देकर नीती का साथ दे।    सूरदास के पद : सूरदास के पद   प्रश्न 10: गोपियों को कृष्ण में ऐसे कौन सा परिवर्तन दिखाई दिए जिनके कारण वे अपना मन वापस पा लेने की बात कहती हैं ?   उत्तर- : गोपियों को लगता है कि  कृष्ण ने अब राजनीति सिख ली है। उनकी बुद्धि पहले से भी अधिक      चतुर हो गयी है। पहले वे प्रेम का बदला प्रेम से चुकाते थे, परंतु अब प्रेम की मर्यादा भूलकर योग का संदेश  देने लगे हैं। कृष्ण पहले दूसरों के कल्याण के लिए समर्पित रहते थे, परंतु अब अपना भला ही देख रहे हैं। उन्होंने पहले दूसरों के अन्याय से लोगों को मुक्ति दिलाई है, परंतु  अब नहीं। श्रीकृष्ण गोपियों से मिलने के बजाय योग के शिक्षा देने के लिए उद्धव को भेज दिए हैं। श्रीकृष्ण के इस कदम से गोपियों के मन और भी आहत  हुआ है। कृष्ण में आये इन्ही परिवर्तनों को देखकर गोपियाँ अपनों को श्रीकृष्ण के अनुराग से वापस लेना चाहती है।     सूरदास के पद : सूरदास के पद  प्रश्न 12: संकलित पदों को ध्यान में रखते हुए सूर के भ्रमरगीत की मुख्य विशेषताएँ बताइये।   उत्तर- : सूरदास मधुर तथा कोमल भावनाओं का मार्मिक चित्रण करने वाले महाकवि हैं। सूर के 'भ्रमरगीत' में अनुभूति और शिल्प दोनों का ही मणि-कांचन संयोग हुआ है। इसकी मुख्य विशेषताएँ इसप्रकार हैं -  भाव-पक्ष - 'भ्रमरगीत' एक भाव-प्रधान गीतिकाव्य है। इसमें उदात्त भावनाओं का मनोवैज्ञानिक चित्रण हुआ है। भ्रमरगीत में गोपियों ने भौंरें को माध्यम बनाकर ज्ञान पर भक्ति की श्रेष्ठता का प्रतिपादन किया है। अपनी वचन-वक्रता,  सरलता, मार्मिकता, उपालंभ, व्यगात्म्कथा, तर्कशक्ति आदि के द्वारा उन्होंने उद्धव के ज्ञान योग को तुच्छ सिद्ध कर दिया है। 'भ्रमरगीत' में सूरदास ने विरह के समस्त भावों की स्वाभाविक एवं मार्मिक व्यंजना की हैं।  सूरदास के पद : सूरदास के पद  कला-पक्ष - 'भ्रमरगीत' की कला-पक्ष अत्यंत सशक्त, प्रभावशाली और रमणीय है।  भाषा-शैली -  'भ्रमरगीत' में शुद्ध साहित्यिक ब्रजभाषा का प्रयोग हुआ है।  अलंकार - सूरदास ने  'भ्रमरगीत' में अनुप्रास, उपमा, दृष्टांत, रूपक, व्यतिरेक, विभावना, अतिशयोक्ति  आदि अनेक अलंकारों का सुन्दर प्रयोग किया है।  सूरदास के पद : सूरदास के पद  छंद-विधान -  'भ्रमरगीत' की रचना 'पद' छंद में हुई है। इसके पद स्वयं में स्वतंत्र भी हैं और परस्पर सम्बंधित भी हैं।  संगीतात्म्कथा - सूरदास कवी होने के साथ-साथ सुप्रसिद्ध गायक भी थे। यही कारण है कि  'भ्रमरगीत' में भी संगीतात्म्कथा का गुण सहज ही दृष्टिगत होता है।         अतिरिक्त प्रश्न उत्तर : अतिरिक्त प्रश्न उत्तर  प्रश्न 1: गोपियों ने उद्धव को भाग्यशाली क्यों कहा है ? क्या वे वास्तव में भाग्यशाली हैं ?  उत्तर- :  गोपियों द्वारा उद्धव को भाग्यवान कहने में यह व्यंग्य निहित है कि उद्धव वास्तव में भाग्यवान न होकर अति भाग्यहीन हैं। वे कृष्णरूपी सौन्दर्य तथा प्रेम-रस के सागर के सानिध्य में रहते हुए भी उस असीम आनंद से वंचित हैं। वे प्रेम बंधन में बँधने एवं मन के प्रेम में अनुरक्त होने की सुखद अनुभूति से पूर्णतया अपरिचित हैं।  अतिरिक्त प्रश्न उत्तर : अतिरिक्त प्रश्न उत्तर  प्रश्न 4: गोपियाँ कृष्ण द्वारा किस मर्यादा का उल्लंघन की बात कर रही हैं और क्यों ? उत्तर :  गोपियाँ कृष्ण द्वारा  प्रेम की मर्यादा का उल्लंघन की बात कर रही हैं।  इसका कारण यह है कि प्रेम में सर्वस्व-समर्पण की भावना होती है, स्वयं पीड़ा सहते हुए भी अपने प्रिय की प्रसन्नता का ध्यान रखा जाता है। परंतु गोपियों की विरह-व्यथा को दूर करने के लिए स्वयं उनके पास आने के स्थान पर कृष्ण ने योग का उपदेश उद्धव को भेज दिया। प्रेम के बदले प्रेम का प्रतिदान ही प्रेम की मर्यादा है, परंतु कृष्ण ने गोपियों के प्रेम रस के उत्तर में योग का शुष्क धारा भेज दी। इस प्रकार उन्होंने प्रेम की मर्यादा का पालन नहीं किया।   अतिरिक्त प्रश्न उत्तर : अतिरिक्त प्रश्न उत्तर  प्रश्न 5: गोपियों का कृष्ण को 'हारिल की लकड़ी' कहने से क्या तात्पर्य है ?  उत्तर : कृष्ण को हारिल का लकड़ी कहकर गोपियों ने अपने प्रेम की दृढ़ता को प्रकट किया है। हारिल एक ऐसा पक्षी है जो सदैव अपने पंजे में कोई लकड़ी या तिनका पकड़े रहता है। वह उसे किसी भी दशा में नहीं छोड़ता। गोपियों का कृष्ण को 'हारिल की लकड़ी' कहने का तात्पर्य यह है कि उनके ह्रदय में कृष्ण का प्रेम इतना दृढ़तापूर्वक समाया हुआ है जो किसी भी प्रकार निकल नहीं सकता। कहने का आशय है कि गोपियाँ कृष्ण के प्रति ही एकनिष्ठ हैं।       अतिरिक्त प्रश्न उत्तर : अतिरिक्त प्रश्न उत्तर  प्रश्न 6: ' हारिल की लकड़ी' किसे कहा गया है और क्यों? उत्तर : ' हारिल की लकड़ी' श्रीकृष्ण को कहा गया है क्योंकि जिस प्रकार हारिल पक्षी सदैव अपने पंजे में कोई लकड़ी या तिनका पकड़े रहता है, उसी प्रकार गोपियों ने भी श्रीकृष्ण को अपने ह्रदय में दृढ़तापूर्वक धारण किया हुआ है और उन्हें छोंड़ने को तैयार नहीं। गोपियाँ कृष्ण के प्रेम में मग्न हैं और दिन-रात 'कृष्ण-कृष्ण' रत लगाती रहती हैं।     अतिरिक्त प्रश्न उत्तर : अतिरिक्त प्रश्न उत्तर  प्रश्न 7: सूरदास के पदों के आधार पर गोपियों का योग-साधना के प्रति दृष्टिकोण स्पष्ट करें।   उत्तर :  सूरदास के पदों में गोपियों का योग-साधना के प्रति उपेक्षा भरा नकारात्मक दृष्टिकोण का आभास मिलता है। गोपियाँ योग को व्यर्थ मानती हैं और उसे स्वीकारने को तैयार नहीं हैं। गोपियों के दृष्टि में योग उस कड़वी ककड़ी के सामान है जिसे कोई खाना नहीं चाहता। उनके विचार में योग एक ऐसा रोग है जिसे उन्होंने न पहले कभी देखा, न कभी सुना। गोपियों का मानना है कि योग तो उन लोगों के लिए है जिनका मन स्थिर नहीं हैं, जबकी गोपियों का मन तो श्रीकृष्ण में स्थिर हो चुका है।    धन्यवाद: धन्यवाद

Related presentations


Other presentations created by vishakha.srivas98

Mahadevi Verma PPT Vishakha IX D
11. 07. 2014
0 views

Mahadevi Verma PPT Vishakha IX D